लंड की चाहत पूरी हुई

Lund ki chahar puri hui:

desi chudai ki kahani

नमस्कार प्यारे पाठको, कैसे हैं आप सब ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और चुदाई के लिए समय तो जरुर निकाल रहे होंगे | चुदाई एक बहुत ही अच्छी क्रिया है | आप सभी जानते हैं कि चुदाई क्रिया पुराने समय से चली आ रही है | पहले ये सिर्फ बच्चे पैदा करने का एक तरीका हुआ करता था लेकिन आज कल ये सिर्फ मजे करने का और रिलेशन आगे बढाने का और पैसे कमाने का जरिया बन कर रह गया है | आज कल हर किसी को आराम से चुदाई मिल जाती है और आसानी से चुदाई करने का मौका भी मिल जाता है | मेरा नाम पंखुरी है और मैं छत्तीसगढ़ की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 25 साल है और मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच है | मेरे दूध ज्यादा बड़े नहीं है लेकिन मेरे चूतड़ बड़े और गोल हैं और इसी के साथ ही मेरा रंग दूध जैसा गोरा है | दोस्तों मैं इस साईट की दैनिक पाठक हूँ और मुझे इस साईट पर चुदाई की कहानियां पढ़ना बेहद पसंद है | पर आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी और एक दम सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयगी और मेरी कहानी पढ़ कर आप लोगो को मजा भी बहुत आयगा | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लूंगी और अपनी कहानी पर आती हूँ |

मैं बहुत ही चुलबुली लड़की थी स्कूल के समय से ही और यही वजह है कि हर कोई मुझे बहुत पसंद करता है | मेरे घर में मैं और मेरे मम्मी पापा और मेरा एक छोटा भाई रहते हैं | मैंने कभी स्कूल में कोई भी बॉयफ्रेंड नहीं बनाया और न ही कॉलेज के समय में लेकिन मुझे मस्ती करना बहुत पसंद रहा है हमेशा से | मैं घर की लाड़ली हूँ और मुझे परिवार में सभी प्यार करते हैं | पर एक चीज़ है जो मेरे घर वाले नहीं जानते और वो है कि मैं चुदाई की आतुर हूँ | मुझे ब्लू फिल्म देखना और चुदाई की कहानियां पढ़ना अच्छा लगता है | ये सब देख कर मैं गरम हो जाती हूँ और अपनी चूत में डिलडो डाल कर चुदाई कर लेती हूँ | पर मैंने कभी लंड का स्वाद नहीं चखा | तभी एक दिन मेरे फूफा और बुआ घर आये शादी का कार्ड लेने | उस समय हम सभी घर पर ही थे | मैंने उन्हें नमस्ते किया और सभी के चाय नाश्ते का बंदोबस्त किया | मेरी बुआ की बेटी की शादी हो रही थी उसी का न्योता देने आये थे | शादी दो महीने बाद थी और मुझे न्यू ड्रेस भी लेना था तो मैंने पापा से पैसे लिए और मॉल चले गई कपड़े लेने | मेरी दीदी की शादी लोकल ही हो रही थी | जब मैं कपड़े ले कर वापस आ रही थी तब बेसमेंट में मेरी गाडी बहुत ही अन्दर थी और तभी वहां पर एक लड़का आया मैंने उससे कहा कि क्या आप मेरी गाडी निकाल सकते हैं ? तो उसने कहा हाँ जरुर पर मेरी गाडी भी अन्दर फंसी है उसको कौन निकलेगा | तो मैं परेशान होने लगी | तो उसने कहा परेशान मत हो मैं मदद करता हूँ | वो वहां से गार्ड को बुलाने गया और वहां से दो तीन गार्ड को बुला लाया | फिर जैसे तैसे हम दोनों की गाडी निकल गई | फिर वहां से मैं अपने घर आ गई | मैंने बहुत ही सुन्दर घाघरा चोली ख़रीदा था |

अब शादी के लिए जो भी पहले कार्यक्रम होते हैं तो मैं वहीँ ही रुक गई थी बुआ के घर में ही | हम लोगो ने सारे कार्यक्रम अच्छे से किये और जब लगुन ले कर जाना था तब मैंने जीन्स और टॉप पहना हुआ था | जब हम लड़के वालो के घर गए तब मुझे वही लड़का मिला जो मुझे मॉल में मिला था | उसने मुझे हाय किया और मैंने भी | वो मेरे पास आया और पूछा कि आप इस शादी में, आप लड़की वालो की तरफ से हैं क्या ? तो मैंने कहा हाँ मेरी दीदी की शादी हो रही है और आप ? तो उसने कहा कि जिससे आपकी दीदी की शादी हो रही है वो मेरा बड़ा भाई है | उसके बाद हम दोनों में दोस्ती हो गई और हम काफी बाते करने लगे | रिसेप्शन के दिन भी हम दोनों में काफी बात हुई | इस लड़के के बारे में मैं अपने घर में बता चुकी थी | उसका नाम पंकज है और वो दिखने में गोरा है और उसकी कदकाठी भी अच्छी है | शादी के बाद हम दोनों मिलने भी लगे और फ़ोन पर भी बात होने लगी | मुझे वो लड़का अच्छा लगता था तो मैंने ही उसे प्रोपोस कर दिया | उसने भी अपने दिल की बात कह दी कि जब मैं उसे पहली बार मिली थी तभी से वो मुझे पसंद करने लगा था | हम दोनों चोरी छुपे मिलते थे | पर ये बात किसी को नहीं पता था कि हम दोनों रिलेशन में हैं | हम दोनों के रिलेशन को जब तीन महीने तक हो चुके थे तो मैंने ही चुदाई की पहल की | उसने कहा कि मेरे दोस्त का रूम है वहां पर अपन चुदाई कर सकते हैं | मैंने कहा कि नहीं यार दोस्त के घर में मुझे अच्छा नहीं लगेगा | तो उसने कहा कि तुम चिंता मत करो कुछ भी दिक्कत नहीं होगी | मैंने भी साफ़ कह दिया था कि मैं चुदाई तुम्हारे घर में या अपने घर में कर सकती हूँ लेकिन कहीं और नहीं | उसने मुझे बहुत बोला और बहुत मनाया पर मैं नहीं मान रही थी | आखिर में मेरी चूत को बात माननी पड़ी और मैंने हाँ कर दिया क्यूंकि मुझे उसका लंड अपनी चूत में चाहिए था | फिर एक दिन उसने मुझसे कहा कि मेरा दोस्त कुछ दिन के लिए बाहर जा रहा है और मैंने उससे चाबी ले ली है तो फिर हम दोनों मिले और वो मुझे उसके दोस्त के घर ले कर गया | वहां पर पंहुचते ही मैंने उससे पूछा कि सच बोलो कोई दिक्कत तो नहीं होगी न ? तो उसने मेरे कंधे में हाँथ रखा और कहा कि नहीं कोई दिक्कत नही होगी | उसके बाद उसने मुझे अपनी बांहों में ले लिया और मेरे होंठ को अपने होंठ से दबा कर चूसने लगा मैं भी उसके चुम्बन से गरम हो गई थी तो मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूसने लगी |

हम दोनों एक दूसरे को किस करते करते सहला भी रहे थे | उसके बाद उसने मेरे टॉप को निकाल दिया और ब्रा के ही उपर से मेरे मम्मो को दबाने लगा तो मेरे मुँह से आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह की सिस्कारियां निकलने लगी | फिर उसने मेरे ब्रा को उतारा और मेरे दोनों दूध को अपने मुँह में ले कर आम की तरह चूसने लगा तो मैं आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए उसके बदन को सहलाने लगी | वो जोर जोर से मेरे मम्मो को चूस रहा था और निप्पलस भी होंठ से दबा कर खींच रहा था और मैं आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | फिर उसने मेरी जीन्स और पेंटी भी उतार दी और बिस्तर पर लेटा कर मेरी टांगो को चौड़ा कर के चूत को चाटने लगा तो मैं आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए कसमसाने लगी | वो मेरी चूत को चाटते हुए चूत के दाने को भी चूस रहा था और मैं आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | फिर उसने अपने कपड़े उतारे और नंगा हो गया उसका लंड मेरी आँखों के सामने था तो मैंने झट से उसके लंड को अपनी जीभ से चटना चालू कर दिया तो वो भी आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए सिस्कारियां लेने लगा | उसके लंड को चाटने के बाद मैं उसके लंड को अपने मुँह में ले कर चूसने लगी तो वो आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए मजे लेने लगा | मैं उसके लंड को आगे पीछे करते हुए जोर जोर से चूस रही थी और वो आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए सिस्कारियां ले रहा था | फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में रखा और अन्दर डाल कर चोदने लगा तो मैं भी आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | वो जोर जोर से मेरी चूत को चोद रहा था और मैं आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहाआ ऊंह ऊम्मंह अह़ा ऊनंह ऊमंह ऊनंह करते हुए भरपूर चुदाई के मजे ले रही थी | कुछ देर चोदने के बाद उसने अपना वीर्य मेरी चूत के उपर ही निकाल दिया |


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


chut chtwaimaa ki chudai ki new kahanisuhaagrat sex videonew chudai ki kahani in hindibaap aur beti chudaibhabhi ko din me chodamaine chudai kiindian sexy kahaniyaarkestra sexgori chut chudaisexstoreshindi choot chudaimarawadi saxaatma sex videogaram chootma ne chodna sikhayafree sex story in hindi fontbhai behan sex kahanidasi khaniachudai ki bhabi kibhai behan ki chudai ki kahani in hindimaa sex story hindibhabhi devar ki chudai hindi mehot kamsutrasex kahani bhai behansex story bhai bahandost ka gand maramausi ki chudai in hindi storyhindi sexy chudai kahanischool me teacher se chudaichachi ki chudai latestchorom chodachudai ki kahani ladkiyo ki jubanimaa bete ka sexsexi maatutor se chudaibahu ki chudai hindi meantarvasna teacher ki chudaibache ki gand marichut me mutchudai ki kahani mausi kiindian hindi sexy storeshindi maa ko chodadesi chudai kahani15 sal ki ladki ki chudaiचौदीनोकरानीmedam ki chuthindi sexy historyhindi new sexy storysbest chudai kahaniwww chut ki chudai commeri chudai story comdesi papa chudairandi bahanchodne wali kahanibehan ki chudai comchudai kahani sitehot aunty sex storiesgaand xossipnangi bhabhi ki chudai storyloda chut sexlund chudai ki kahanisadhu baba ki chudaibari gaandrandi ki chut chodinandoi ne jabardasti ki hindi hot storyhindi sex story didilund se chudai ki kahanichoot lene ke tarikehindi choda chodi kahaniinteresting chudai storiessali ki chudai story hindimaa bete ko chodachoot chudaiboudir sathe sexbhabhi ki chudai sex kahanibehan ki chudai combhabhi ki sex storywww kammukta combhosda ki photomalish ke bad chudairangeeli bhabhisexy story aunty ki chudaihindi chachi chudai story